भूलकर भी…खोई जवानी वापस पाएं, कहने वालों के पास न चलें जाएं, नहीं तो…

लाइफस्टाइल डेस्क. आपने भी शहर और कस्बे की दीवारों पर अक्सर सेक्स संबंधी जुड़े विज्ञापन देखते होंगे। जहां दीवारों पर खोई हुई जवानी और बचपन की बुरी आदतों से आईं कमजोरी को दूर करने वाले तमाम सेक्स संबंधी समस्याओं को दूर करने वाले पोस्टर लगे होते हैं। जिससे आकर्षित होकर अक्सर लोग इन नीम हकीम के चंगुल में फंस जाते हैं और गंभीर बीमारियों के शिकार हो जाते हैं।

मनोरोग से जुड़े एक विशेषज्ञ ने बताया कि वास्तव में खोई हुई जवानी जैसी कोई बीमारी होती ही नहीं है और न ही इसका कोई इलाज है। वास्तव में यह एक भ्रम होने की वजह से गलत इलाज करवाने लगते हैं। लोगों को ऐसे सेक्स क्लीनिकों पर जानें के बजाय खुद को मानसिक तौर पर मजबूत रखना चाहिए।

वर्चुअल दुनिया के लिए बेहद खतरनाक

loading...

जानकारी के अनुसार, ऑनलाइन पोर्न साइट और सेक्स टॉय का प्रयोग बड़ी समस्या के रुप में सामने आ रहा है। इनका प्रयोग यौनिक जीवन को बुरी तरह से प्रभावित कर रहा है। वर्चुअलिटी से जब व्यवहारिक लाइफ में आते हैं तो लोगों के बीच बॉन्डिंग नहीं बन पाती है। इस तरह की चीजों पर प्रतिबंध लगाना चाहिए।

मीडियो को बदलना चाहिए ट्रेंड

जानकारी के मुताबिक, मीडिया में सुसाइड से जुड़ी खबरों को दिखाने का तरीका बदलना चाहिए। इसमें फांसी का फंदा, ब्लेड, चाकू आदि को जो प्रतीकात्मक फोटो लगती है उसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। कहीं न कहीं परेशान लोगों को इन खबरों में छपी फोटों के देखकर सुसाइड का विचार दिमाग में आने लगता है।

Loading...
loading...