UP Board Result 2019: कुछ ऐसा हो सकता है इस बार का यूपी बोर्ड का रिजल्ट

प्रयागराज. यूपी बोर्ड के रिजल्ट की तारीख करीब आने के साथ ही परीक्षा में शामिल 50 लाख से अधिक छात्र-छात्राओं की धड़कने बढ़ने लगी हैं। दो साल से परीक्षा के दौरान हो रही सख्ती ने परिणाम को लेकर चिंता और बढ़ा दी है लेकिन परीक्षार्थियों को घबराने की जरूरत नहीं है। बोर्ड से जो संकेत मिल रहे हैं उसके अनुसार इस बार का परिणाम भी 2018 की तरह फील गुड वाला होगा।

loading...

पिछले साल सख्ती के कारण लोग परिणाम बहुत खराब होने की आशंका जता रहे थे। हालांकि 29 अप्रैल 2018 को रिजल्ट घोषित हुआ तो उम्मीद से कहीं अधिक हाईस्कूल के 75.16 और इंटर के 72.43 प्रतिशत छात्र-छात्राएं सफल हो गए। परिणाम में सुधार के पीछे कई कारण है। पिछले ढाई दशक में बोर्ड के नियमों में व्यापक बदलाव का भी असर हुआ है।

1992 में जब सबसे खराब रिजल्ट आया था उस समय हाईस्कूल के छह विषयों में से किसी एक विषय में फेल होने पर परीक्षार्थी फेल हो जाता था लेकिन अब ऐसा नहीं है। इस नियम से बड़ी संख्या में परीक्षार्थियों को राहत मिलने के आसार है। इसी प्रकार पहले कुल पांच नंबर का ग्रेस मार्क्स सिर्फ दो विषयों में मिलता था। अब इंटर में 20 और हाईस्कूल में 18 नंबर का ग्रेस मार्क्स सभी विषयों में मिलाकर मिलता है। इसके चलते चार-पांच नंबर से फेल हो रहे छात्र आसानी से पास हो जाते हैं। सिर्फ दो विषयों में ग्रेस मार्क्स मिलने की बाध्यता नहीं होने के कारण भी बड़ी संख्या में परीक्षार्थियों को राहत मिलने की संभावना है।

Loading...
loading...