योगी सरकार ने रद्द की 68500 शिक्षकों की भर्ती परीक्षा, असमंजस में फंसे अभ्यर्थी !

Lucknow. योगी सरकार ने शिक्षक बनने की आस में बैठे लाखों अभ्यर्थियों को बड़ा झटका दिया है। 12 मार्च को प्रस्तावित परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में 68500 शिक्षकों की भर्ती परीक्षा को स्थगित कर दिया गया है। अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा राज प्रताप सिंह ने यह जानकारी देते हुये बताया कि अभी संभावित तारीख की घोषणा नहीं की गई है।

68500 शिक्षकों की भर्ती

 

सरकार की स्पेशल अपील पर HIGHCOURT ने सुनवाई जारी रखने का निर्देश दिया है। लिहाजा सरकार के सामने परीक्षा को स्थगित करने के अलावा और कोई विकल्प नही था। ऐसे में अभ्यर्थियों में भी परीक्षा के लिए असमंजस था।

loading...

नियमों में हुआ था बदलाव

योगी सरकार सहायक अध्यापक भर्ती की नियमावली में बदलाव करके शैक्षिक मेरिट की बजाय सामान्य प्रक्रिया यानि लिखित परीक्षा के जरिए शिक्षकों का चयन कर रही है। 68500 सहायक अध्यापक भर्ती के लिए प्रदेश के सभी 18 मंडल मुख्यालयों पर 12 मार्च को परीक्षा कराने की पूरी तैयारियां हो चुकी हैं।

ALSO READ.  अपने ही गढ़ में हार गई बीजेपी, सपा प्रत्याशी ने जीता चुनाव !

इस बीच कोर्ट के आदेश से लिखित परीक्षा 12 मार्च को होने के आसार नहीं हैं, क्योंकि TET उत्तीर्ण अभ्यर्थी ही इस परीक्षा में शामिल हो रहे हैं और करीब दस फीसदी सवाल हटने से पूरा परीक्षा परिणाम बदलना होगा। उसके बाद सफल अभ्यर्थियों से आवेदन लेने के बाद ही लिखित परीक्षा हो सकती है। महज पांच दिन में यह होना संभव नहीं है।

अभ्यर्थियों की मुश्किलें बढ़ी

राजधानी लखनऊ में परीक्षा की तैयारी कर रहे अभ्यर्थी भी उहापोह का शिकार हैं। विभागीय अफसर इस संबंध में कुछ भी बोलने से कतरा रहे हैं। शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा को देखते हुए इन दिनों जिला एवं प्रशिक्षण संस्थानों से TET 2017 के अर्ह अभ्यर्थियों को प्रमाणपत्र वितरित हो रहा था।

परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव डा. सुत्ता सिंह ने डायट प्राचार्यों को निर्देश दिया है कि वह प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्तर के प्रमाणपत्र वितरण का कार्य तत्काल रोक दें, प्रमाणपत्रों को डायट में ही सुरक्षित रखें। इस संबंध में जल्द आदेश दिया जाएगा।

loading...